"हमारीवाणी.कॉम" का घूँघट उठ गया है

हिंदी ब्लॉग लेखकों के लिए खुशखबरी - "हमारीवाणी.कॉम" का घूँघट उठ चुका है और इसके साथ ही अस्थाई feed cluster संकलक को बंद कर दिया गया है. "हमारीवाणी.कॉम" पर कुछ तकनीकी कार्य अभी भी चल रहे हैं, इसलिए अभी इसके पूरे फीचर्स उपलब्ध नहीं है, आशा है यह भी जल्द पूरे कर लिए जाएँगे.

पिछले 10-12 दिनों से जिन लोगो की ID बनाई गई थी वह अपनी प्रोफाइल में लोगिन कर के संशोधन कर सकते हैं. कुछ प्रोफाइल के फोटो हमारीवाणी टीम ने अपलोड किये हैं अगर उनमें कुछ त्रुटी हो तो उपयोगकर्ता उनमें भी संशोधन कर सकता है.

अपनी ID बनाने की बाद अपना ब्लॉग हमें सुझाना ना भूलें.

आपके जितने भी सुझाव आएं हैं उनपर ध्यान दिया जा रहा है, उम्मीद है आप इसी तरह से अपने बहुमूल्य सुझाव हमें भेजते रहेंगे. किसी भी तरह की असुविधा के लिए हमारी पूरी टीम क्षमा की प्रार्थी है.


अगर आपने अभी तक अपना ब्लॉग हमारीवाणी.कॉम को नहीं सुझाया है तो झट से अपनी ID बनाइये और अपने ब्लॉग का URL हमें भेज दीजिये.


धन्यवाद!
टीम हमारीवाणी

36 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया...बधाई एवं शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!
    --
    आशा है कि आपका एग्रीगेटर
    ब्लॉगवाणी की भरपाई करने का प्रयास करेगा!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया...बधाई एवं शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बधाई एवं शुभकामनाएँ.
    regards

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बढ़िया सार्थक और सराहनीय पहल के लिए हार्दिक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  6. सार्थक व सुन्दर प्रयास और सराहनीय भी ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. शुभकामनायें । इंतजार रहेगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. सम्पूर्ण समग्र एग्रीगेटर के लिये बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत बढ़िया...बधाई एवं शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपने खल रही कमी को पूरा करने का सार्थक प्रयास किया है

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुन्दर प्रयास। मेरी शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  12. धन्यवाद व बधाई किन्तु सर्वर की स्पीड में सुधार की आवश्यकता हैं. शेष... शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  13. हमारीवाणी जी हमारे ब्लाँग को तो आपने गोली ही मार दी है । पहले तो फिडकलस्टर पर ब्लाँग दिख रहा था पर डाँट काँम पर नही दिख रहा है रजिस्टर करने के बाद भी लिँक नही खुल रहे हैँ ।
    mukeshy42@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  14. हमारीवाणी जी हमारे ब्लाँग को तो आपने गोली ही मार दी है । पहले तो फिडकलस्टर पर ब्लाँग दिख रहा था पर डाँट काँम पर नही दिख रहा है रजिस्टर करने के बाद भी लिँक नही खुल रहे हैँ ।
    mukeshy42@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  15. ऐसे तो न जाने कितने संकलक बने हुए हैं!
    --
    ऐसा संकलक तो कोई भी चिट्ठाकार बना सकता है!

    उत्तर देंहटाएं