थोडा सा इंतज़ार कीजिये, घूँघट बस उठने ही वाला है

हमें बहुत हर्ष है कि आपने अपने बहुमूल्य सुझाव आपके अपने ब्लॉग संकलक हमारीवाणी.कॉम को दिए, आशा है आप अपने सुझाव हमें भेजने जारी रखेंगे। आपकी उत्सुकता के लिए बताते चलते हैं कि हमारीवाणी.कॉम जल्द ही अपने डोमेन नेम अर्थात http://hamarivani.com के सर्वर पर अपलोड हो जाएगा। आपको यह जानकार हर्ष होगा कि यह बहुत ही आसान और उपयोगकर्ताओं के अनुकूल बनाया जा रहा है। इसमें लेखकों को बार-बार फीड नहीं देनी पड़ेगी, एक बार किसी भी ब्लॉग के हमारीवाणी.कॉम के सर्वर से जुड़ने के बाद यह अपने आप ही लेख प्रकाशित करेगा। आप सभी की भावनाओं का ध्यान रखते हुए इसका स्वरुप आपका जाना पहचाना और पसंद किया हुआ ही बनाया जा रहा है। लेकिन धीरे-धीरे आपके सुझावों को मानते हुए इसके डिजाईन तथा टूल्स में आपकी पसंद के अनुरूप बदलाव किए जाएँगे।

लोगो के वोट+पठन+टिप्पणियों के बेहतर तालमेल से "हमारी पसंद" नामक टूल बनाया जा रहा है। अहम् बात यह है कि इसमें कुछ छुपा हुआ नहीं होगा और सभी को "हमारी पसंद" जैसे टूल की गणना की जानकारी दी जाएगी। अगर लेखक गण चाहेंगे तो इसमें बदलाव भी किया जा सकता है।

कुछ लोगो को शिकायत है कि उनका ब्लॉग हमारीवाणी में सम्मिलित नहीं किया गया है। इसके उत्तर में हम कहना चाहेंगे कि अभी "हमारीवाणी" अपने सर्वर पर अपलोड नहीं हुई है। अभी यह एक अस्थाई संकलक पर चल रहा है ताकि आपके ब्लॉग की फीड हम तक पहुँच सकें। इसकी कुछ सीमाएं हैं तथा इसमें कुछ त्रुटियाँ है, जिस कारण 2-3 ब्लॉग इसके साथ नहीं जुड़ पाएं हैं। परन्तु हम आपको आश्वस्त करते हैं कि आपके ब्लॉग हमारे सर्वर पर जोड़ लिए जाएँगे।

अस्थाई संकलक के कारण आपको हो रही असुविधा के लिए हमें खेद है!


थोडा सा इंतज़ार कीजिये, घूँघट बस उठने ही वाला है!

धन्यवाद!

हमारीवाणी टीम

17 टिप्‍पणियां:

  1. इसमें कुछ छुपा हुआ नहीं होगा, यही मेरा सुझाव था, जो कुछ गडबड होती हैं वह छुपे हुये में ही होती हैं, "हमारी पसंद" ही सबकी पसंद है,

    अब तो मैं यह सोच रहा हूँ घूँघट उठते ही मुँह दिखायी में क्या दिया जाये?

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्या ब्लोग्वानी बंद हो गई है? काफी दिनों से केवल दोस्तों के ब्लोग्स ही खोल पाया था, आज ब्लोग्वानी पर गया तो बंद थी. फिर अपने ब्लॉग पर आपका कमेन्ट देखा. क्या आपकी साईट भी ब्लोग्वानी जैसी ही होगी? चिटठा जगत में तो कुछ समाज में नहीं अत है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेसब्री से इंतजार है ।
    शुभकामनायें ।
    ब्लोगवाणी की गलतियों को न दोहराया जाए ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. यह एक बहुत अच्छा कदम होगा |हमे बहुत उत्सकता से घूंघट उठने का इंतजार है |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  5. घूंघटे में चंदा है,
    फिर भी फैला है चारों ओर उजाला,
    जोश न खो दे, होश न खो दे,
    कहीं देखने वाला...

    आजा रे, हम तो कब से खड़े तेरे द्वार...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  6. @सभी ब्लागर
    ब्लागवाणी बन्द नही हुई है केवन नए फिड अपडेट नही हो रहे है ।
    पर हमारीवाणी जी आप लोग गलतियोँ से सबक नही लेना चाहते है । आप लोग तो हमारे सवालो का जवाब देना तक उचीत नही समझते हैँ । जो पसंद और नापसंद ब्लागवाणी को डुबा सकती है वो हमारीवाणी को ज्यादा दिन नही चलने देगी । एग्रीगेटर के मालिक हैँ आपलोग,
    मेरी राय पर भी ध्यान
    1.पसंद और नापसंद का चक्कर खत्म करेँ।
    2.शिर्ष ब्लागर और टिप्पणी न दिखे
    3. एक सर्च पेज अलग से जोङा जाऐ
    4.चिठ्ठोँ का वर्गिकरण हो जैसे तकनिकी,समाज
    5.ब्लाग विजेट बनाये जाऐ
    6.हमारीवाणी का मोबाईल संस्करण भी लाँच हो

    धन्यवाद



    ->सुप्रसिद्ध साहित्यकार और ब्लागर गिरीश पंकज जी के साक्षात्कार का आखिरी भाग पढने के लिऐ यहाँ क्लिक करेँ ->>>>

    ->सुप्रसिद्ध साहित्यकार और ब्लागर गिरीश पंकज जी के साक्षात्कार का आखिरी भाग पढने के लिऐ यहाँ क्लिक करेँ ->>>>

    उत्तर देंहटाएं
  7. interesting blog, i will visit ur blog very often, hope u go for this website to increase visitor.Happy Blogging!!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. हमारीवाणी के संचालक महोदय से मेरी गुज़ारिश है कि मेरा ब्लॉग स्वच्छ सन्देश को आप प्लीज़ अपनी लिस्ट से हटा लें ! मैंने एक बार हटा दिया था नाम भी चेंज कर दिया था लेकिन आपने फिर लगा दिया है

    उसे जितनी जल्दी हो सके हटा दीजिये

    आभारी रहूँगा !

    सलीम ख़ान
    9838659380

    उत्तर देंहटाएं